कैंसर जीवविज्ञान और सूजन विकृति प्रभाग

उद्देश्‍य

इस प्रभाग को हाल ही में, कैंसर से सम्‍बन्धित क्षेत्रों की विस्‍तृत विशेषज्ञता रखने वाले छह समर्पित वैज्ञानिकों और पचास से अधिक शोध छात्रों को लेकर बनाया गया है। हमारे दीर्घकालीन लक्ष्‍य कैंसर के आणविक और अनुवांशिक आधार की जॉंच से लेकर किसी भी स्‍तर पर कैंसर की व्‍यापक समझ, कैंसर का विकास, प्रतिरक्षा, प्रतिक्रिया और सूजन के दौरान कोशिकागत प्रक्रियाओं की व्‍याख्‍या पर ध्‍यान केंन्द्रित करना है। संकायों फेफड़े, मास्तिष्‍क, मौखिक, स्‍तन, अग्‍नाशय, गर्भाशय, ग्रीवा के कैंसर और ल्‍यूकेमिया आदि विषयों के क्षेत्र में दोनों मौलिक एवं स्‍थानान्‍तरीय अनुसंधान का संचालन करते हैं। हमारा मौजूदा फोकस विभिन्‍न कैंसर कोशिकाओं के वृद्धि को इन-भीट्रो रोकने वाले शुद्ध हर्बल और/या सिंथेटिक यौगिकों/हर्बल अर्को की पहचान, कैंसर में परिवर्तन एवं सांकेतिक पथ के आपसी वार्ता को समझने पर है। हमारा जोर सिस्‍टम जीवविज्ञान के दृष्टिकोण का उपयोग करते हुए नये लक्ष्‍यों के लक्षण वर्णन, लक्ष्‍य विशिष्‍ट मार्गदर्शन की पहचान और जीव वैज्ञानिकता पर भी है। प्रभाग के कुछ मौजूदा गतिविधियों में शामिल हैं, फारमाकोफोर मोडेलिंग के माध्‍यम से यौगिकों का इन-सिलीको पुस्‍तकालय के विकास द्वारा प्रमुख अणुओं को श्रेष्‍ठतम बनाना, संरचना- आधारित ड्रग-डिजाइन, औषधि वितरण, इन-भीभो प्रभावकारिता, फार्माकोकिनेटिक्‍स, इन-भीभो़ विषाक्‍तता/सुरक्षा औषधि विज्ञान। कैंसर स्‍टेम सेल पर अनुसंधान जारी है। इन-भीभो सांकेतिक क्रासटॉक का अध्‍ययन करने के लिए ट्यूमर के पशु मॉडल का विकास हमारा प्रमुख भावी लक्ष्‍य है। औषधीय रासायन विज्ञान, जैव सूचनाओं , इन-सिलीको मॉडलिंग समूहों और चिकित्‍सकों के साथ सहयोग, इस प्रभाग को, कम लागत में कैंसर के चिकित्‍सा विज्ञान एवं सस्‍ती स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल प्रदान करने के लिए नवीन लक्ष्‍य के साथ तेजी से बढ़ती इकाई बनाती है।



वैज्ञानिक

तकनीकी अधिकारी

  • डॉ. (श्रीमती)  कृष्‍णा दास साहा

डॉ.(श्रीमती) शिला एलीजाबेथ बेसरा

जे सी बोस नेशनल फेलो

  • डॉ. चित्रा मंडल

   © भारतीय रासायनिक जीवविज्ञान संस्थान, कोलकाता     आईआईसीबी - हिंदी इकाई एवं कम्प्यूटर प्रभाग, सीएसआईआर द्वारा डिजाइन और अनुरक्षित