प्रो. समित चट्टोपाध्याय


एफटीडब्लूएएस, एफएनए, एफएएससी; जे सी बोस नेशनल फेलो
निदेशक, सीएसआईआर-भारतीय रासायनिक जीवविज्ञान संस्थान
4, राजा एस.सी. मल्लिक रोड, यादवपुर, कोलकाता - 700032
फोन : कार्यालय : 91-33-2473-5368, 91-33-2413-1157
फैक्स : 91-33-2473-5197
इ-मेल : director@iicb.res.in; samit@iicb.res.in

परिचय

यूकेरियोटिक इंटरफेज क्रोमेटिन एक अत्यधिक सुनियोजित संरचना है। विशेष स्कैफोÏल्डग प्रोटीन डीएनए के साथ संमिश्रणों का निर्माण करता है और डीएनए के पैकेजिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। डीएनए पैकेजिंग की महत्वपूर्ण संरचना में लूप डोमेन में क्रोमेटिन की फोÏल्डग शामिल है, जो समय-समय पर बाइंडिंग के माध्यम से नाभिकीय मैट्रिक्स में जुड़ जाता है जिससे विशिष्ट डीएनए अनुक्रम निर्मित होता है, जिसे मैट्रिक्स अटैचमेंट रिजन या एमएआर कहा जाता है। हम अध्ययन करते हैं कि किस प्रकार एमआरए में विशेष रूप से बंधने वाले प्रोटीन जेनोमिक डीएनए संगठन और नाभिकीय जैवरासायनिक कार्य, जैसे रूपांतरण, पुनर्संयोजन, जुड़ाव, मरम्मत आदि को नियमित करते हैं। पिछले अनेक वर्षों से हमारी प्रयोगशाला ने पैथोफिजियोलोजिक प्रक्रिया में नाभिकीय मैट्रिक्स एवं उससे जुड़े प्रोटीनों की भूमिका को समझने का प्रयास करती रही है। हमने एक ऐसे ही नवीन मैट्रिक्स युक्त प्रोटीन एसएमएआर1 पर विशेष बल दिया है, जो मानव स्तन कैंसर में अव्यवस्थित हो जाता है। यह HDAC1-mSin3a आधारित रिप्रेशर संमिश्र द्वारा प्रत्यक्षत: भरे गए साइक्लिन डी1, IkBa  तथा CK8 सहित अनेक जीनों के लिए वैश्विक रिप्रेशर के रूप में कार्य करता है। हमारी खोज से यह पता चलता है कि एसएमएआर1 वैश्विक जीन प्रकटीकरण को नियंत्रित करने हेतु दो भिन्न-भिन्न तरीकों से कार्य करता है। प्रथम, यह लिप्यतंरणीय रिप्रेशर के रूप में कार्य करता है और दूसरा, यह लिप्यंतरणीय सह-सक्रियक NF-kB तथा p-53 की परिवर्तनीय-सक्रियन क्षमता को संशोधित करता है। इसके अतिरिक्त NF-kB तथा p-53 ऑनकोजेनिक रूपांतरण में शामिल अनेक लिप्यंतरण कारकों को नियमित करता है।  ये सहकारक वै·िाक स्तर पर विभिन्न संकेतन पथों को प्रभारित करते हैं जिससे ऐसे जीनों का सक्रियन होता है जो टमेरोजेनेसिस की प्रक्रिया प्रारंभ होती है। अत: हम अपने अनुसंधान कार्य में एसएमएआर1 द्वारा वैश्विक जीन नियमन को समझने पर विशेष बल दे रहे हैं।

 

 

 


   © भारतीय रासायनिक जीवविज्ञान संस्थान, कोलकाता     आईआईसीबी - हिंदी इकाई एवं कम्प्यूटर प्रभाग, सीएसआईआर द्वारा डिजाइन और अनुरक्षित